रक्षा बंधन पर निबंध हिंदी में – Rakshabandhan Essay in Hindi

आज के इस हिंदी निबंध के आर्टिकल में आप रक्षा बंधन पर निबंध (Rakshabandhan Essay in Hindi) पढ़ सकते हैं।

इस आर्टिकल से पहले हमने फुटबॉल एवं पर्यावरण पर निबंध हिंदी में पढ़ा था अगर आपने इसे नहीं पढ़ तो आप यह भी पढ़ सकते हैं।

रक्षा बंधन पर निबंध हिंदी में (Rakshabandhan Essay in Hindi) –

रक्षा बंधन पर निबंध for class 5 hindi

किसी प्रकार के बंधन में बँधना भला किसको अच्छा लग सकता है? किसी को नहीं। लेकिन एक प्रकार का बंधन है, जिसमें लोग बड़ी प्रसन्नता से बँधते हैं। उस बंधन का नाम है — रक्षाबंधन।

रक्षाबंधन या राखी में कुछ ही धागे होते हैं, लेकिन वे बड़े बलशाली होते हैं। वे धागे बाँधनेवाले और बँधानेवाले दोनों को प्रेम के पवित्र बंधन में बाँध देते हैं ।

रक्षाबंधन भाई-बहन के पवित्र प्रेम का त्योहार है। यह त्योहार श्रावण (सावन) मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है।

यह सम्पूर्ण भारत में मनाया जानेवाला पारिवारिक त्योहार है। इस दिन बहन भाई की कलाई पर इस भावना से प्रेरित होकर राखी बाँधती है कि उसकी यह राखी मजबूत कवच बनकर प्रत्येक खतरा से उसके भाई की रक्षा करे।

भाई भी बहन को यह वचन देता है कि उसके शरीर में रक्त का एक बूँद भी रहने तक वह अपनी बहन के मान-सम्मान की रक्षा करेगा।

रक्षाबंधन की परम्परा के सम्बन्ध में एक पौराणिक कथा है। उस कथा के अनुसार एक बार देव-दानव युद्ध में देवताओं की पराजय होने लगी।

उस समय देवराज इन्द्र की पत्नी शची ने अपने पति की विजय और उनकी मंगल कामना से उनकी कलाई पर रक्षा-सूत्र बाँधा ।

उस रक्षा-सूत्र के प्रभाव से युद्ध में देवराज इन्द्र को विजय मिली। तभी से रक्षा के इन सूत्रों का महत्त्व मान लिया गया।

रक्षाबंधन के दिन बहनें प्रातः स्नानकर तैयार होती हैं। एक थाली में चावल, दही, कुमकुम और मिठाई सजाकर भाइयों के पास जाती हैं।

भाइयों के ललाट पर दही मिले चावल और कुमकुम का टीका लगाती हैं, मिठाई खिलाती हैं तथा उनकी कलाई पर राखी बाँधती हैं।

भाई भी बहनों को सदा रक्षा का वचन देकर कुछ उपहार देते हैं । इस प्रकार रक्षाबंधन भाई-बहन के पवित्र प्रेम-स्नेह का त्योहार है।

Final Thoughts – 

दोस्तों, इस आर्टिकल में आपने रक्षा बंधन पर निबंध (Rakshabandhan Essay in Hindi) हिंदी में पढ़ा।

मुझे पूर्ण विस्वास है की आपको हमारे hindideep.in वेबसाइट के बाकि सभी निबंधों की तरह यह निबंध भी जरूर पसंद आया होगा।

आप यह भी पढ़ सकते हैं –

Leave a Comment